पुनर्बहाली तथा निर्माण

किसी भूकंप के आने के बाद क्या किया जाए

  • शांत रहें, रेडियो/टी.वी. को चालू करें तथा इस पर आने वाली हिदायतों का पालन करें।
  • समुद्र-तट तथा नदी के निचले किनारों से दूर रहें। बड़ी लहरें आपको बहा सकती हैं।
  • भूकंप के बाद आने वाले झटकों के प्रति तैयार रहें।
  • पानी, गैस तथा बिजली के स्विचों को बंद कर दें।
  • सिगरेट न पिएं तथा माचिस की तीली को न जलाएं अथवा किसी सिगरेट लाइटर का उपयोग न करें। स्विच को ऑन न करें क्योंकि गैस लीकेज अथवा षार्ट-सर्किट हो सकता है। टॉर्च का उपयोग करें।
  • यदि कहीं आग लगी हो तो इसे बुझाने का प्रयास करें। यदि आप इसे बुझा न सकें तो फायर ब्रिगेड को बुलाएं।
  • यदि लोगों को गंभीर चोट लगी हो तो उन्हें तब तक न हिलाएं जब तक कि उन्हें कोई खतरा न हो।
  • उस ज्वलनषील पदार्थ, जो जमीन पर बिखर गया हो, (अल्कोहल, पेंट आदि) को तुरंत साफ कर दें।
  • यदि आपको पता चल जाए कि लोग जल गए हैं तो बचाव टीमों को बुलाएं। हड़बड़ी न मचाएं तथा चोटग्रस्त लोगों अथवा अपनी खुद की हालत को और खराब न बनाए।
  • ऐसे स्थानों से बचें जहां पर बिजली की तारें टूटी पड़ी हों तथा उनके संपर्क में आने वाली किसी धातु की वस्तु को न छुएं।
  • बिना जांच किए छलनी, फिल्टर, किसी मामूली साफ कपड़े से साफ किए बिना खुले बर्तन से पानी न पिएं।
  • यदि आपका घर बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया हो तो आपको इसको छोड़ना पड़ेगा। जिसमें पानी के बर्तनों, खाना तथा सामान्य तथा विषेश दवाइयों (दिल की बीमारी, डायबिटीज आदि के मरीजों हेतु) को इकट्ठा कर लें।
  • बुरी तरह क्षतिग्रस्त बिल्डिंगों के अंदर दोबारा न घुसें तथा टूटे-फूटे ढांचों के पास न जाएं।